whatsapp

One Click रूट क्या है | मोबाइल रूट कैसे करें (with pc or without pc )

एंड्राइड फोन रूट ( मोबाइल फोन रूट क्या है) करने के बहुत सारे तरीके हैं, जिनमें से आज हम बात करेंगे वन क्लिक रूट का, आज के इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि वन क्लिक रूट क्या है और इसके द्वारा हम अपने मोबाइल फोन रूट कैसे कर सकते हैं ।

बहुत सारे android app और पीसी सॉफ्टवेयर है जो मोबाइल फोन को रूट करने के लिए बनाए गए हैं। जिनको हम PC या फोन में इंस्टॉल करके और उसमें बताए गए निर्देशों का पालन करके अपने फोन को single click में रूट कर सकते हैं।

वन क्लिक रूट के फायदे

One click रूट मेथड से फोन को रूट करने का सबसे आसान और सुरक्षित तरीका है इसके द्वारा मोबाइल फोन को रूट करने के दौरान फोन खराब होने का खतरा नहीं रहता है और रूट हो जाने के बाद एंड्रॉयड फोन को आसानी से Unroot भी किया जा सकता है ।

One click रूट एंड्रॉयड apps

इन सभी रूटिंग ऐप में सबसे पावरफुल किंग रूट app है जो कि आसानी से लगभग सभी एंड्राइड फोन जो एंड्राइड VERSION-5 या इसके नीचे रन करते हैं को रूट कर सकता है। लेकिन इससे अधिक एंड्रॉयड वर्जन पर यह कारगर नहीं है उनके लिए पीसी वर्जन अवेलेबल है लेकिन ये भी इतने पावरफुल नहीं हैं।

यदि यह मेथड आपके फोन में काम ना करें तो आप हमारी दूसरे आर्टिकल को जरूर पढ़ें। इसमें 100% यूनिवर्सल रूटिंग तरीका बताया गया है। अनलॉक बूटलोडर, इंस्टाल कस्टम रिकवरी TWRP, रूट एंड्रॉयड फोन

यह भी पढ़ें

KingRoot का उपयोग करके अपने Android फ़ोन को रूट कैसे करें

किंगरूट का उपयोग करके अपने एंड्रॉइड डिवाइस पर दो तरह से रूटिंग की जा सकती है। पहला तरीका एंड्रॉइड एपीके के माध्यम से है, और दूसरा विंडोज एप्लिकेशन के माध्यम से है।

Kingroot Android ऐप के द्वारा अपने Android डिवाइस को रूट करना

  1. Kingroot latest apk डाउनलोड करने के लिए kingroot की official website www.kingrootapp.net पर जाएं। जिस Android डिवाइस को आप रूट करना चाहते हैं, उस पर KingRoot ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल करें। यदि आपका फोन kingroot को harmful बताकर installation रोक दे तो डरें नहीं “install Anyway” पर टैप करें।
  1. इंस्टॉलेशन पूरा होने के बाद, ऐप खोलें और प्रक्रिया शुरू करने के लिए प्यूरीफाई सिस्टम के तहत “Try it” बटन पर क्लिक करें।

Rooting के लिए आपको बढ़िया इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता है

  1. रूटिंग शुरू करने के मोबाइल डिवाइस पर मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करना लिए app के home में “Get now” या “Root Now” बटन पर टैप करें।
  1. रूट करने की प्रक्रिया में कुछ मिनट लगेंगे। 0% से 100% होने का मोबाइल डिवाइस पर मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करना इंतजार करें और अंत में आपका फोन reboot हो जायेगा।

Note: यदि kingroot एप कुछ परसेंट होने के बाद रीसेट हो जाए तो फिर से root now पर टैप करें। और तब तक retry करें जब तक आपका फोन रूट न हो जाए या 8,9 बार retry करें

अब Google Play Store से रूट चेकर ऐप डाउनलोड करें ताकि यह जांचा जा सके कि आपका फोन रूट हुआ है या नहीं।

Kingroot window ऐप से अपने एंड्रॉइड डिवाइस को रूट करना

किंगरूट पीसी एप्लिकेशन का उपयोग करके पीसी के माध्यम से अपने एंड्रॉइड डिवाइस को रूट करना बेहद आसान है। आपको बस अपने डिवाइस को USB केबल से अपने पीसी से कनेक्ट करना है। Kingroot द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करना है।

फिर भी, आप नीचे दिए गए चरणों का पालन करके अपने डिवाइस को विंडोज ऐप के माध्यम से रूट कर सकते हैं।

  1. अपने पीसी पर kingroot का windows version डाउनलोड करें। www.kingrootapp.net

पीसी पर kingroot install करें, सुनिश्चित करें मोबाइल डिवाइस पर मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करना कि install करने से पहले आपके पीसी पर एंटीवायरस disable है।

  1. अब आपको अपने फोन पर USB debugging” enable करना है।

ऐसा करने के लिए, अपने फोन के सेटिंग ऐप में “about phone” पर जाएं।

Developer option enable करने के लिए “build number” पर 7 बार टैप करना होगा। फिर बैक बटन दबाएं और developer option में जाकर “USB debugging” enable करें।

इसके बाद थोड़ा नीचे स्क्रॉल करके “OEM unlock” enable करें।

  1. यूएसबी के माध्यम से अपने एंड्रॉइड डिवाइस को पीसी से कनेक्ट करें।पीसी पर किंगरूट एप्लिकेशन खोलें।

यह आपके डिवाइस के लिए ADB Fastboot driver install करेगा। ( ADB Fastboot driver कैसे इंस्टाल करें)

इंस्टॉलेशन होने के बाद आपका डिवाइस पीसी से कनेक्ट हो जाएगा और आपको आपके डिवाइस की रूट स्थिति दिखाएगा।

  1. अपने डिवाइस को रूट करना शुरू करने के लिए “Start to root” पर क्लिक करें।

इसमें कुछ क्षण लगेंगे, रूट होने पर आपका डिवाइस reboot हो जाएगा और डिवाइस के रूट होने के बाद एप्लिकेशन आपको रूट स्थिति बता देगा।

अपने फोन में मौजूद निजी डाटा को रखना है सुरक्षित, तो जरूर अपनाएं ये तरीके

smartphone

जब से मोबाइल फोन स्मार्ट हुआ है, तब से इससे जुड़े खतरे भी बहुत बढ़ गए हैं। आए दिन स्मार्टफोन हैक होने से लेकर डाटा लीक होने तक की खबरे सुनने को मिलती रहती हैं। अब ऐसे में यह सवाल उठता है कि आखिर अपने स्मार्टफोन को हैक होने से कैसे बचाया जाए। तो इसका जवाब आपको हमारी इस खबर में मिलेगा। यहां हम आपको कुछ खास तरीकों के बारे में बताएंगे, जिनको अपना कर आप अपने डिवाइस को सुरक्षित रख सकेंगे। आइए जानते हैं इन टिप्स के बारे में.

password

पासवर्ड एप का करें इस्तेमाल
आमतौर पर जटिल पासवर्ड बनाना थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन आप पासवर्ड एप के जरिए आसानी से पासवर्ड बना सकते है। इसके अलावा पासवर्ड एप आपके बनाए गए पासवर्ड को पूरी तरह से सुरक्षित रखेंगे। वहीं, ये एप्स को गूगल प्ले स्टोर और एप स्टोर प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं।

sms

मैसेजिंग एप का करें इस्तेमाल
वैसे तो लोग एसएमएस के लिए फोन में मौजूदा मैसेज प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे निजी डाटा खतरे में पड़ जाता है। हालांकि, इस समस्या से बचने के लिए मैसेजिंग एप का उपयोग करना चाहिए। ये एप्स यूजर्स की चैट, फोटो और वीडियो को पूरी तरह से सुरक्षित रखते हैं। इसके अलावा इन एप्स में यूजर्स तमाम ऐसे फीचर्स मिलते हैं, जो साधारण मैसेज प्लेटफॉर्म में उपलब्ध नहीं होते हैं।

सांकेतिक तस्वीर

स्मार्टफोन को समय-समय पर करें अपडेट
स्मार्टफोन को समय-समय पर अपडेट करना चाहिए, क्योंकि इससे हैकर्स को यूजर्स की निजी जानकारी हैक करने का मौका नहीं मिलता है। इसके अलावा यूजर्स को अपडेट में एंड्रॉयड सिक्योरिटी पैच के साथ कई सारे सुरक्षा फीचर्स मिलते हैं।

free wifi

पब्लिक वाई-फाई का यूज न करें
हैकर की नजर सबसे ज्यादा पब्लिक वाई-फाई पर होती है। इसलिए जहां तक संभव हो इंटरनेट के लिए मोबाइल डाटा का ही इस्तेमाल करें। या फिर ज्यादा जरूरी हो तो किसी दोस्त से हॉट्स-पॉट ले लें।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all Tech News in Hindi related to live news update of latest gadgets News apps, tablets etc. Stay updated with us for all breaking news from Tech and more Hindi News.

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Whatsapp अब बगैर फोन के बीटा में 4 डिवाइस पर उपलब्ध

फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के लिए अपनी नई मल्टी-डिवाइस क्षमता का बीटा वर्जन लॉन्च किया है. इसके तहत लोग जल्द ही अपने स्मार्टफोन के इस्तेमाल के बावजूद अधिकतम चार डिवाइस पर डेस्कटॉप या वेब अनुभवों का उपयोग कर सकते हैं.

Whatsapp अब बगैर फोन के बीटा में 4 डिवाइस पर उपलब्ध

सैन फ्रांसिस्को, 15 जुलाई : फेसबुक (Facebook) के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के लिए अपनी नई मल्टी-डिवाइस क्षमता का बीटा वर्जन लॉन्च किया है. इसके तहत लोग जल्द ही अपने स्मार्टफोन के इस्तेमाल के बावजूद अधिकतम चार डिवाइस पर डेस्कटॉप या वेब अनुभवों का उपयोग कर सकते हैं. यहां तक कि जब उनके स्मार्टफोन बंद हो जाते हैं,उसी एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के साथ वो उसका उपयोग कर सकते हैं. व्हाट्सएप के प्रमुख विल कैथकार्ट ने व्हाट्सएप की अपडेटेड मल्टी-डिवाइस क्षमता के लिए एक सीमित सार्वजनिक बीटा परीक्षण के रोलआउट की घोषणा की है. मौजूदा स्थिति में, बीटा टेस्टर्स के सीमित समूह के साथ उपलब्ध है जो व्हाट्सएप के बीटा प्रोग्राम का हिस्सा हैं, और जल्द ही इसे वैश्विक स्तर पर रोल आउट किया जाएगा. कैथकार्ट ने 14 जुलाई को एक बयान में कहा, इस नई क्षमता के साथ, अब आप अपने फोन और चार अन्य गैर-फोन डिवाइस पर एक साथ व्हाट्सएप का उपयोग कर सकते हैं, भले ही आपके फोन की बैटरी खत्म हो गई हो.

एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के माध्यम से गोपनीयता और सुरक्षा के समान स्तर को बनाए रखते हुए प्रत्येक साथी डिवाइस स्वतंत्र रूप से आपके व्हाट्सएप से कनेक्ट होगा, जो व्हाट्सएप का उपयोग करने वाले लोग उम्मीद करते आए हैं. उन्होंने कहा, जरूरी यह है कि , हमने आपके डेटा को सिंक करने के दौरान एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन बनाए रखने के लिए नई तकनीकों का प्रयोग किया गया है - जैसे कांटेक्ट नेम, चैट आर्काइव ,स्टार्ट मैसेज और बहुत कुछ - सभी डिवाइस में. अब तक, व्हाट्सएप एक समय में केवल एक डिवाइस पर उपलब्ध था और डेस्कटॉप और वेब सपोर्ट केवल सक्रिय इंटरनेट कनेक्शन के साथ फोन को मिरर करके ही काम करता था. वेब, मैकओएस, विंडोज और पोर्टल पर साथी उपकरणों के लिए वर्तमान व्हाट्सएप अनुभव प्राथमिक डिवाइस के रूप में एक स्मार्टफोन ऐप का उपयोग करता है, जिससे फोन सभी उपयोगकर्ता डेटा के लिए सत्य का स्रोत बन जाता है और एकमात्र डिवाइस है जो संदेशों को एंड-टू-एंड एन्क्रिप्ट करने में सक्षम है. यह भी पढ़ें : Facebook ने क्रिएटर्स को स्टार्टअप देने के लिए एक बिलियन डॉलर का निवेश करने की योजना बनाई

व्हाट्सएप ने कहा, यह आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र सुरक्षा से समझौता किए बिना फोन और साथी डिवाइस के बीच एक सहज सिंक्रनाइज अनुभव प्रदान करना आसान बनाता है. कंपनी ने कहा कि नया व्हाट्सएप मल्टी-डिवाइस आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र सभी बाधाओं को दूर करता है, अब यूजर्स डेटा को बिना किसा रोक और सुरक्षित रूप से सिंक्रनाइज कर सकते है. मल्टी-डिवाइस की शुरूआत से पहले, व्हाट्सएप पर सभी की पहचान एक ही पहचान की द्वारा की जाती थी, जिससे सभी एन्क्रिप्टेड संचार कुंजी प्राप्त की जाती थीं. मल्टी-डिवाइस के साथ, प्रत्येक डिवाइस की अब अपनी पहचान कुंजी होती है. कैथकार्ट ने बताया, व्हाट्सएप सर्वर प्रत्येक व्यक्ति के खाते और उनकी सभी डिवाइस पहचान के बीच मैपिंग रखता है. जब कोई संदेश भेजना चाहता है, तो उन्हें सर्वर से उनकी डिवाइस सूची कुंजी मिलती है. कंपनी ने कहा कि वह लोगों को अतिरिक्त सुविधा और सुरक्षा भी देगी कि कौन से डिवाइस मोबाइल डिवाइस पर मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करना उनके खाते से जुड़े हैं. सबसे पहले, सभी को अपने फोन से एक क्यूआर कोड स्कैन करके नए साथी डिवाइस को लिंक करना जारी रहेगा. इस प्रक्रिया को अब लिंक करने से पहले बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण की आवश्यकता है जहां लोगों ने संगत उपकरणों पर इस सुविधा को सक्षम किया है

व्‍हाट्सएप ने कर दिया इन स्‍मार्टफोन पर काम करना बंद, चेक कर लें आपका एकाउंट है एक्टिव या नहीं

फेसबुक के स्‍वामित्‍व वाली मैसेजिंग एप व्‍हाट्सएप ने ब्‍लैकबेरी ओएस, ब्‍लैकबेरी 10, विंडोज फोन 8.0 और इससे पुराने प्‍लेटफॉर्म पर काम करने वाले सभी स्‍मार्टफोन पर काम करना बंद कर दिया है।

Edited by: Abhishek Shrivastava
Published on: January 02, 2018 11:57 IST

whatsapp- India TV Hindi

whatsapp

सैन फ्रांसिस्‍को। फेसबुक के स्‍वामित्‍व वाली मैसेजिंग एप व्‍हाट्सएप ने ब्‍लैकबेरी ओएस, ब्‍लैकबेरी 10, विंडोज फोन 8.0 और इससे पुराने प्‍लेटफॉर्म पर काम करने वाले सभी स्‍मार्टफोन पर काम करना बंद कर दिया है। अगर आपके पास भी इन प्‍लेटफॉर्म पर चलने वाले स्‍मार्टफोन हैं तो आपका व्‍हाट्सएप एकाउंट भी नए साल में बंद हो गया होगा या हो जाएगा।

बदल गए Twitter और Whatsapp, 2017 में सोशल मीडिया में हुए ये बड़े बदलाव

व्‍हॉट्सएप लीक: सेबी ने कहा कंपनियों से ही लीक की गई थीं सूचनाएं, होगी कार्रवाई

नए साल से ठीक पहले ठप्प हो गई थी WhatsApp सेवा, घंटे भर बाद फिर हुई चालू

कंपनी की वेबसाइट पर एक प्रवक्‍ता ने अपने नोट में लिखा है कि यह प्‍लेटफॉर्म उस तरह की क्षमता उपलब्‍ध कराने में सक्षम नहीं है, जिसकी हमें भविष्‍य में अपने एप्‍प के फीचर्स को विस्‍तारित करने की जरूरत होगी। इसमें कहा गया है कि यदि आप प्रभावित मोबाइल डिवाइस में से किसी का इस्‍तेमाल करते हैं तो हम आपको सलाह देते हैं कि आप नए ओएस वर्जन को अपग्रेड कर लें या नए एंड्रॉयड जैसे ओएस 4.0प्‍लस, ओओएस 7प्‍लस पर चलने वाले आईफोन या 8.1प्‍लस विंडोज फोन को खरीद लें, ताकि आप व्‍हाट्सएप का लगातार इस्‍तेमाल कर सकें।

यूजर्स व्‍हाट्सएप का इस्‍तेमाल करने में सक्षम होंगे लेकिन वो नया एकाउंट नहीं बना पाएंगे और न ही मौजूदा एकाउंट को रि-वेरीफाई कर पाएंगे। व्‍हाट्सएप ने कहा है कि चूंकि हम ऐसे प्‍लेटफॉर्म पर सक्रियता से और लंबे समय तक काम नहीं कर सकते हैं, कुछ फीचर्स किसी भी समय काम करना बंद कर सकते हैं।

व्‍हाट्सएप ने कहा है मोबाइल डिवाइस पर मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करना कि 31 दिसंबर 2018 से वह नोकिया एस40 को सपोर्ट देना भी बंद कर देगा। एक फरवरी 2020 के बाद 2.3.7 और इससे पुराने एंड्रॉयड वर्जन पर भी व्‍हाट्सएप चलना बंद हो जाएगा।

कंपनी ने कहा है कि हम अपने अगले सात सालों पर ध्‍यान केंद्रित कर रहे हैं और हम अपना पूरा ध्‍यान ऐसे मोबाइल प्‍लेटफॉर्म पर करना चाहते हैं जिसका उपयोग दुनिया में अधिकांश लोग कर रहे हैं। कंपनी ने आगे कहा है कि यदि आप इन प्रभावित मोबाइल डिवाइस का उपयोग कर रहे हैं तो व्‍हाट्सएप का लगातार उपयोग जारी रखने के लिए अपने पुराने डिवाइस को नए एंड्रॉयड, आईफोन या विंडोज फोन से करें।

WhatsApp के Multi-Device फीचर का इंतज़ार हुआ खत्म, एक साथ चला सकेंगे कई फोन और लैपटॉप पर व्हाट्सऐप

इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म व्हाट्सऐप (WhatsApp) लंबे समय से एक फीचर पर काम कर रहा है। जिसके जरिए यूजर्स एक ही व्हाट्सऐप अकाउंट को कई फोन्स में चल पाएंगे, इस फीचर का इंतजार फैन्स लंबे समय से कर रहे.

WhatsApp के Multi-Device फीचर का इंतज़ार हुआ खत्म, एक साथ चला सकेंगे कई फोन और लैपटॉप पर व्हाट्सऐप

इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म व्हाट्सऐप (WhatsApp) लंबे समय से एक फीचर पर काम कर रहा है। जिसके जरिए यूजर्स एक ही व्हाट्सऐप अकाउंट को कई फोन्स में चल पाएंगे, इस फीचर का इंतजार फैन्स लंबे समय से कर रहे हैं। WhatsApp के अनुभव को प्रीमियम और परेशानी मुक्त बनाने के लिए और यूजर्स को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए कंपनी नई सुविधाएँ और अपडेट जारी कर रही है। इसी कड़ी में अब खबर है कि जल्द कंपनी व्हाट्सऐप बीटा यूजर्स (WhatsApp Beta Users) के लिए मल्टी-डिवाइस सपोर्ट फीचर (Multi-Device Support Feature) को लॉन्च कर देगी। खबर है कि व्हाट्सऐप बीटा ग्राहकों को इस फीचर को टेस्ट करने के लिए दे रहा है जिसके ये फीचर सभी के पेश कर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- सिर्फ 2 रुपये ज्यादा खर्च कर पाएं दोगुना से ज्यादा डेटा, Jio के इस प्लान के हैं कई जबर्दस्त फायदे

WhatsApp मल्टी-डिवाइस फीचर जल्द होगा उपलब्ध
Wabetainfo की रिपोर्ट के मुताबिक, जल्द ही बीटा यूजर्स को मल्टी-डिवाइस फीचर का अर्ली पास मुहैया कराया जाएगा। व्हाट्सऐप बीटा यूजर्स से जल्द इस फीचर की टेस्टिंग कराएगा। जो यूजर मल्टी-डिवाइस सपोर्ट के लिए पहले से साइन अप करेंगे, वे स्मार्टफोन पर इंटरनेट कनेक्शन के बिना व्हाट्सऐप वेब का उपयोग करने में सक्षम होंगे। साथ ही, सभी उपयोगकर्ता जो इस सुविधा का टेस्ट करना चाहते हैं, उन्हें लेटेस्ट बीटा वर्जन अपडेट करना होगा।

ये भी पढ़ें:- सस्ते में Realme के स्मार्टफोन्स खरीदने का मौका, पहली बार मिल रही है 17000 रुपये तक की छूट

WhatsApp Multi-device Feature क्या है?
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मल्टी-डिवाइस सपोर्ट फीचर आपको चार डिवाइस में एक ही व्हाट्सऐप अकाउंट को चलाने में सक्षम बनाएगा। आसान शब्दों में कहें तो यूजर्स एक ही समय में फोन और लैपटॉप दोनों पर WhatsApp का इस्तेमाल कर सकेंगे। मार्क जुकरबर्ग ने मल्टी-डिवाइस फीचर की खासियत बताते हुए कहा था कि अब आपके स्मार्टफोन की बैटरी खत्म होने के बाद भी आप दूसरे डिवाइसों के जरिए अपनी बातचीत चालू रख पाएंगे। खास बात यह भी है कि इसमें प्राइमरी डिवाइस के लिए एक्टिव इंटरनेट कनेक्शन की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

रेटिंग: 4.35
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 377