झाऊ को एक झटके में करीब एक अरब डॉलर का नुकसान हो गया. उनके नुकसान का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उन्होंने खुद बयान देकर कह दिया कि 'मैं फिर से गरीब हो गया'. झाऊ के अलावा एक रिपोर्ट में ये भी बताया गया कि सोशल मीडिया पर केएसआई (KSI) के नाम से मशहूर ओलाजिदे ओलायिंका विलियम्स नामक चर्चित यूट्यूबर ने करीब 21 करोड़ रुपये से अधिक गंवा दिए. ऐसे ही न जानें कितने निवेशक इस गिरवट से बुरी तरह कंगाल हो गए.

Cryptocurrency News: सिर्फ गिरावट ही नहीं गलत सूचनाएं भी पहुंचा रही हैं नुकसान, क्रिप्टोकरंसी को लेकर हो जाएं सतर्क

By: ABP Live | Updated at : 27 May 2022 09:42 AM (IST)

Cryptocurrency News Update: भारत में क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) भले ही लीगल टेंडर नहीं है, लेकिन फिर भी देश में डिजिटल करेंसी (Digital Currency) में निवेश करने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है. सरकार के सख्त रुख के बावजूद पिछले दिनों आई रिपोर्ट की मानें तो पहली बार क्रिप्टो में पैसा लगाने वाले निवेशकों के मामले में भारत अव्वल रहा. गौरतलब है कि क्रिप्टो बाजार (Crypto Market) बेहद उतार-चढ़ाव वाला मार्केट है और इसमें कब निवेशक आसमान पर पहुंच जाए और कब एक झटके में गिरकर जमीन पर आ गिरे, कहा नहीं जा सकता. पिछले दिनों टेरा लूना का हश्र इसका हालिया उदाहरण है. ऐसे में निवेशकों को बेहद सावधान रहने की जरूरत है.

क्रिप्‍टो बाजार में नया-नया आजमाना चाहते हैं हाथ तो छोटे निवेशक ऐसे करें शुरुआत, Crypto Market में निवेश करने वाले सावधान रहे समझें पूरा नफा-नुकसान

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी में करीब 40 हजार करोड़ रुपये का निवेश है.

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी में करीब 40 हजार करोड़ रुपये का निवेश है.

अगर आप कुछ सावधानी वाले तरीकों का पालन करते हैं, तो आप कम से कम पैसे के साथ भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने में सक्षम . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : April 17, 2022, 16:07 IST

नई दिल्‍ली. क्या क्रिप्टोकरेंसी एक अच्छा निवेश है? यह क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सबसे अधिक पूछे जाने वाले सवालों में से एक है. निवेश करने के लिए हर किसी के पास बड़ी रकम नहीं होती है. शुक्र है कि क्रिप्टो एक ऐसा निवेश विकल्प है जिसका उपयोग सीमित वित्तीय संसाधनों वाले लोग भी कर सकते हैं. यह धारणा कि पैसा बनाने के लिए आपको बहुत अधिक पैसे की जरूरत होती है, पूरी तरह गलत है. देश के जाने माने क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज वजीरएक्‍स के सीईओ व सह-संस्‍थापक निश्चल शेट्टी बता रहे कि छोटे और नए निवेशकों को यहां हाथ आजमाने के लिए क्‍या सावधानी रखनी चाहिए.

छोटे पैमाने से करें शुरुआत
शेयर बाजार की तरह क्रिप्टो बाजार भी अस्थिर है, जिसका Crypto Market में निवेश करने वाले सावधान रहे अर्थ है कि परिसंपत्ति की कीमतों में तेजी से बदलाव आएगा. लिहाजा क्रिप्टोकरेंसी में केवल यह सुनिश्चित करने के बाद निवेश करें कि Crypto Market में निवेश करने वाले सावधान रहे आपके पास बिना कोई कर्ज लिए कम से कम छह महीनों के खर्च के लिए पर्याप्त पूंजी है.

Crypto Currencies: आप भी क्रिप्टो में लगाते हैं पैसा तो ठहरिए, जान लीजिए इस बारे में क्या कहते हैं विशेषज्ञ

Is investing in crypto currency good? (File Photo)

क्रिप्टो करेंसी में निवेश ठीक है या डूबेगी लुटिया? (File Photo)

  • क्या क्रिप्टो से हो सकती है शानदार कमाई?
  • या फिर यह है काल्प्निक दुनिया की फ्यूज लाइट?
  • सरकार भी क्रिप्टो करेंसी को बढ़ावा देने के पक्ष में नहीं दिखती है

पता भी नहीं चलता, आपका पैसा कहां गया
उनका कहना है- "मेरा तर्क काफी सरल है: क्रिप्टो करेंसी एक ऐसा सिस्टम है जिसमें बड़ी मात्रा में धन को देश की सीमाओं के पार, बिना किसी निशान (trace) के और किसी भी कारणों से स्थानांतरित करने की सहूलियत है। मैं ऐसे किसी वैध कमर्शियल इंटरप्राइज़ के बारे में नहीं जानता जिसे ऐसी सुविधा की आवश्यकता हो। और छोटे निवेशकों को, जो इन गैर-कानूनी उद्यमों के साथ सह-निवेश (co-invest) कर रहे हैं, उन्हें देर सबेर झटका लगने ही वाला था।"

क्रिप्टो में निवेश कर रहे हैं तो हो जाएं सावधान! लगातार बढ़ रहे हैं धोखाधड़ी के मामले

क्रिप्टो में निवेश कर रहे हैं तो हो जाएं सावधान! लगातार बढ़ रहे हैं धोखाधड़ी के मामले

कोरोना महामारी के बीच क्रिप्टोकरेंसी सबसे ज्यादा चर्चाओं में रही है. इस वर्चुअल करेंसी ने बड़ी संख्या में निवेशकों को खूब मालामाल किया है. लेकिन कम समय में मोटी कमाई के चक्कर में निवेशकों का पैसा भी डूब रहा है. आपको बता दें कि साल 2021 में धोखाधड़ी करने वालों यानी स्पैमर ने क्रिप्टो निवेशकों से 58,000 करोड़ रुपए से ज्यादा ठग लिए. ब्लॉकचेन का विश्लेषण करने वाली फर्म चेन एनालिसिस की ताजा रिपोर्ट बताती है कि वर्ष 2021 में क्रिप्टोकरेंसी के कारोबार में वित्तीय घोटालों की संख्या 50 फीसदी से ज्यादा बढ़कर 3300 के पार हो गई. वर्ष 2020 में ठगी के मामलों की संख्या 2052 थी.

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो कर रही जांच

खबर तो ये भी है कि भारत में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी क्रिप्टोकरेंसी के लेनदेन की जांच कर रही है. आशंका है कि इस करेंसी की आड़ में मादक पदार्थों का कारोबार किया जा रहा है. दुनिया भर में इस साल धोखाधड़ी करने वाले स्पैमर, निवेशकों की 7.7 अरब डॉलर की क्रिप्टोकरेंसी लेकर फरार हो चुके हैं. इस दौरान निवेशकों को रगपुल के जरिए सबसे ज्यादा चपत लगाई गई. दरअसल, रगपुल एक ऐसा जरिया है जिसमें एक नई क्रिप्टोकरेंसी के डेवलपर लोगों से निवेश करवा कर अचानक गायब हो जाते हैं. रिपोर्ट के अनुसार इस साल क्रिप्टो घोटालों में रगपुल का 2.8 अरब डॉलर का हिस्सा है. यह आंकड़ा सभी प्रकार के क्रिप्टोकरेंसी घोटालों का एक तिहाई से ज्यादा है.

निवेश में सतर्क रहने की जरूरत

वर्ष 2021 में दुनिया की लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन और इथेरियम की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिला है. इसके साथ ही इसमें निवेश को लेकर जोखिम भी काफी बढ़ गया है। दरअसल, भारत सहित सभी प्रमुख देशों में क्रिप्टो करेंसी को रेग्युलेट नहीं किया गया है. जाहिर है किसी सरकारी संस्थान में इसकी शिकायत का प्रावधान नहीं है. ऐसे में क्रिप्टो में निवेश करते समय ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है.

क्रिप्टोकरंसी के ऊंचे रिटर्न को देखते हुए अब भारत में भी इसका क्रेज बढ़ने लगा है. देश के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX ने जानकारी दी है कि एक्सचेंज के जरिये उसका ट्रेडिंग वॉल्यूम एक साल में 18 गुना से ज्यादा बढ़ गया है. इसके साथ ही एक्सचेंज पर यूजर साइनअप में तेज उछाल देखने को मिला है और यूजर बेस बढ़ कर 1 करोड़ तक पहुंच गया है. कारोबार बढ़ने के साथ ही आशंकाएं भी बढ़ गयी हैं कि धोखेबाज अब ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बना सकते हैं.

'क्रिप्टोकरेंसी में निवेश'

Jeffrey Gundlach का कहना है कि वो मार्केट के बियरिश ट्रेंड में क्रिप्टो पर्चेज नहीं करेंगे क्योंकि अभी फेडरेल रिजर्व की ओर से कुछ ऐसे कदम उठाए जा सकते हैं जो कि मार्केट पर बड़ा प्रभाव डाल सकते हैं.

Ankr का काम न केवल पूरे क्रिप्टोकरेंसी ईकोसिस्टम की परफॉर्मेंस को बेहतर करेगा, बल्कि ब्लॉकचेन डेटा स्टोरेज को ऑप्टिमाइज करने के साथ ही इसकी परफॉर्मेंस को भी 100 प्रतिशत तक बढ़ा देगा।

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज का ट्रेडिंग वॉल्यूम साल की दूसरी तिमाही आधे से भी ज्यादा तक नीचे आ गया और यह 217 बिलियन डॉलर (लगभग 17,25,130 करोड़ रुपये) पर पहुंच गया

रेटिंग: 4.75
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 520