ये देखना भी दिलचस्प है कि इस एंगर इंडेक्स में जिन मुख्यमंत्रियों का स्कोर अच्छा रहा है, यानी जिनसे कम लोग नाराज हैं वो ज्यादातर गैर-बीजेपी शासित राज्य हैं. असम की हिमंता बिस्वा मात्र अकेले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जो बीजेपी से है और सर्वे में शामिल केवल 12.2 प्रतिशत लोग उनसे नाखुश हैं. वहीं राजधानी दिल्ली की बात करें तो यहां भी केजरीवाल सरकार के खिलाफ नाराज लोगों का प्रतिशत कम है.

ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत 40वें स्थान पर पहुंचा

Anger Index: मुख्यमंत्रियों के खिलाफ जनता की नाराजगी का डेटा, गहलोत सरकार से सबसे ज्यादा नाखुश हैं लोग

न्‍यूज एजेंसी IANS और C वोटर की ओर से किए गए 'एंगर सर्वे' में विभिन्न राज्यों की सरकार से कितने प्रतिशत लोग नाराज है, इसका डेटा सामने आया है.

Anger Index: पॉपुलेशन, पॉल्यूशन, जेंडर, हंगर जैसे मुद्दों पर सर्वे या इंडेक्स तो आते रहते हैं, लेकिन अब एक एंगर इडेंक्स (Anger index) भी सामने आया है, जिसकी इन दिनों खूब चर्चा है. इस एंगर इंडेक्स में राज्यों के मुख्यमंत्रियों से जनता की नाराजगी मापी दुनिया में सबसे अच्छा संकेतक क्या है? गई है.

एंगर इडेक्स में क्या?

न्‍यूज एजेंसी IANS और C वोटर की ओर से किए गए इस सर्वे (Survey) में ये बताया गया है कि विभिन्न राज्यों की सरकार से कितने प्रतिशत (Percentage) लोग खुश और नाखुश है. सर्वे के मुताबिक राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत से जनता सबसे ज्यादा नाराज हैं, तो छत्तीसगढ़ (Chhatisgarh) के सीएम भूपेश बघेल के प्रति जनता की दुनिया में सबसे अच्छा संकेतक क्या है? नाराजगी सबसे कम है. खास बात ये है कि इन दोनों राज्यों में ही कांग्रेस की सरकार है. तो आइए जानते हैं किन पांच राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भारतीय जनता ज्यादा नाराज है.

राज्य एंगर परसेंटेज
राजस्थान- 35.4% नाखुश
कर्नाटक- 33.1% नाखुश
बिहार- 32.0% नाखुश
हरियाणा- 30.7% नाखुश
झारखंड- 29.8% नाखुश

अब जानते हैं कि किन राज्यों के सीएम से लोग सबसे कम नाराज है और उनका प्रतिशत क्या है.

सामने आए एंगर डेटा को लेकर माना जा रहा है कि राजस्थान में हाल ही में हुए सियासी संकट और सीएम अशोक गहलोत का सचिन पायलट के खिलाफ रवैये से लोग नाखुश हैं. जबकि छत्तीसगढ़ हाल ही में सबसे कम बेरोजगारी दर वाले राज्य के तौर पर उभरा है, जिसका फायदा सीएम बघेल को मिलता दिख रहा है.

क्या है Glycemic Index? डायबिटीज के मरीजों के लिए कौन से Foods का सेवन है फायदेमंद, यहां जानें वो फूड्स

क्या है Glycemic Index? डायबिटीज के मरीजों के लिए कौन से Foods का सेवन है फायदेमंद, यहां जानें वो फूड्स

Diabetes Foods Chart: अगर है आपको डायबिटीज तो जानें कौन से फ़ूड हैं फायदेमंद.

शरीर को स्वस्थ और फिट रखने में जीवनशैली के साथ हमारा खानपान अहम भूमिका निभाता है. वहीं अगर कोई व्यक्ति मधुमेह यानी डायबिटीज जैसी बीमारी से पीड़ित है तो सही लाइफस्टाइल और फूड और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है. ऐसा इसलिए क्योंकि मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति का ब्लड शुगर कंट्रोल से बाहर हो जाता है. ऐसे लोग इंसुलिन का पर्याप्त उत्पादन करने में सक्षम नहीं होते जिससे उनके ब्लड शुगर के लेवल में बढ़ोतरी होती है. हालांकि, सही भोजन से दुनिया में सबसे अच्छा संकेतक क्या है? स्थिति को नियंत्रण में रखा जा सकता है. कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ खाने से ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है. यहां हम डायबिटीज से पीड़ित लोगों को क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए इस बारे में विस्तार से बता रहे हैं.

यह भी पढ़ें

ग्लाइसेमिक इंडेक्स क्या है-What Is Glycemic Index?
ग्लाइसेमिक इंडेक्स किसी भी खाद्य पदार्थ को खाने के बाद रक्त शर्करा के स्तर पर उसके प्रभाव को मापने का एक तरीका है. यह भोजन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा की तुलना खाने पर रक्त शर्करा पर पड़ने वाले प्रभाव से काम करता है. खाद्य पदार्थों को ग्लाइसेमिक इंडेक्स स्कोर दिया जाता है, उन्हें निम्न, मध्यम और उच्च के रूप में लेवल किया जाता है. 55 और उससे कम जीआई स्कोर वाले खाद्य पदार्थ ग्लाइसेमिक इंडेक्स पर कम होते हैं, हालांकि, 70 और उससे अधिक जीआई स्कोर वाले खाद्य पदार्थ ग्लाइसेमिक इंडेक्स पर उच्च होते हैं. कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फूड मधुमेह वाले लोग खा सकते हैं.

d6e6rvho

डायबिटीज में कौन से फूड खाने चाहिए- What Foods Should Be Eaten In Diabetes:

भारत टॉप 40 में हुआ शामिल:

देश में सरकार द्वारा नवाचार के क्षेत्र में उठाये गए कदमों का प्रभाव आज इस रैंकिंग में दिख रहा है. भारत आज टॉप 40 में शामिल हो गया है. भारत इस सूची के 'मध्य और दक्षिण एशिया' क्षेत्र में शीर्ष पर है, उसके बाद ईरान दूसरे स्थान पर है. यह नीति आयोग के नवाचार प्रोग्राम अटल इनोवेशन प्रोग्राम और भारत सरकार द्वारा संचालित अन्य प्रौद्योगिकी पहलों का परिणाम है.

लोअर मिडिल-इनकम ग्रुप (lower middle-income group) में टॉप पर है भारत:

भारत निम्न मध्यम आय वर्ग (lower middle-income group) में प्रथम स्थान पर है. भारत आईसीटी सेवाओं के निर्यात में दुनिया में अग्रणी है. भारत अन्य संकेतकों में शीर्ष रैंकिंग रखता है जिसमे उद्यम पूंजी प्राप्ति मूल्य, स्टार्टअप और स्केलअप के लिए वित्त की उपलब्धता, विज्ञान और इंजीनियरिंग में स्नातक, श्रम उत्पादकता वृद्धि और घरेलू उद्योग विविधीकरण शामिल हैं. निम्न मध्यम आय वर्ग में वियतनाम दूसरे और ईरान तीसरे स्थान पर है.

ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स 2022 का थीमेटिक फोकस 'नवाचार-संचालित विकास के भविष्य' पर केन्द्रित है. ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स 2022 दो नवीन नवाचार संभावना को दर्शाता है.
1. सुपरकंप्यूटिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, और ऑटोमेशन एक डिजिटल युग है जो वैज्ञानिक अनुसंधान के सभी क्षेत्रों और क्षेत्रों में पर्याप्त उत्पादकता प्रभाव डालने के कगार पर है.
2. जैव प्रौद्योगिकी, नैनो प्रौद्योगिकी और अन्य विज्ञान में सफलताओं पर निर्मित एक गहन विज्ञान नवाचार वेव, जो समाज के लिए महत्वपूर्ण चार क्षेत्रों स्वास्थ्य, भोजन, पर्यावरण और गतिशीलता में नवाचारों में क्रांतिकारी बदलाव कर रही है.

वर्ल्ड इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी ऑर्गेनाइजेशन:

विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (World Intellectual Property Organization) संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी है. इसका गठन वर्ष 1967 में लिया गया था. इसका गठन बौद्धिक संपदा के संरक्षण और रचनात्मक गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए किया गया है. इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड में है. प्रतिवर्ष 26 अप्रैल को, 'विश्व बौद्धिक संपदा दिवस' के रूप में मनाया जाता है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

Read the latest Current Affairs updates and download the Monthly Current Affairs PDF for UPSC, SSC, Banking and all Govt & State level Competitive exams here.

Global Hunger Index 2022 Report: अब भी देश में भूख पर हाहाकार ! 107वें स्थान पर खिसका, जानें क्या कहती है रिपोर्ट

India Ranking In GHI Report 2022: इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है जहां पर दुनिया में सबसे अच्छा संकेतक क्या है? एक बार फिर भारत भूख के मामले में खिसक गया है जी हां हाल ही में सामने आई ग्लोबल हंगर इंडेक्स (Global Hunger Index) की लेटेस्ट रिपोर्ट में 121 देशों की सूची में देश को 107वां स्थान मिला है।जबकि बच्चों में ‘चाइल्ड वेस्टिंग रेट’ (ऊंचाई के हिसाब से कम वजन) 19.3 प्रतिशत है जो दुनिया के किसी भी देश से सबसे अधिक है। पड़ोसी देश पाकिस्तान (99), बांग्लादेश (84), नेपाल (81) और श्रीलंका (64) भारत के मुकाबले कहीं अच्छी स्थिति में हैं। एशिया में केवल अफगानिस्तान ही भारत से पीछे है और वह 109वें स्थान पर है।

नॉलेज: क्‍या होता है पीएमआई? यह दुनिया में सबसे अच्छा संकेतक क्या है? देश की इकोनॉमी पर कैसे डालता है असर?

पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स (पीएमआई) मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की आर्थिक सेहत को मापने का एक इंडिकेटर है। इसके जरिए किसी देश की आर्थिक स्थिति का आकलन किया जाता है। पीएमआई सेवा क्षेत्र समेत निजी क्षेत्र की अनेक गतिविधियों पर आधारित होता है। इसमें शामिल तकरीबन सभी देशों की तुलना एक जैसे मापदंड से होती है। पीएमआई का मुख्‍य मकसद इकोनॉमी के बारे पुष्‍ट जानकारी को आधिकारिक आंकड़ों से भी पहले उपलब्‍ध कराना है, जिससे अर्थव्‍यवस्‍था के बारे में सटीक संकेत पहले ही मिल जाते हैं। पीएमआई 5 प्रमुख कारकों पर आधारित होता है। इन पांच प्रमुख कारकों में नए ऑर्डर, इन्‍वेंटरी स्‍तर, प्रोडक्‍शन, सप्‍लाई डिलिवरी और रोजगार वातावरण शामिल हैं।

रेटिंग: 4.82
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 175