नई दिल्ली: अगर आप भी शेयर या कमोडिटी बाजार में ट्रेडिंग करते हैं तो डेरिवेटिव मार्केट या डेरिवेटिव ट्रेडिंग शब्द से आप का पाला जरूर पढ़ा होगा. डेरिवेटिव ट्रेडिंग वास्तव में शेयर/कमोडिटी बाजार में डेरिवेटिव की खरीद या बिक्री है. डेरिवेटिव ट्रेडिंग एक पूर्व निर्धारित मूल्य के लिए भविष्य में डेरिवेटिव का ट्रेड करने के लिए दो पार्टियों के बीच हुआ एक समझौता है. डेरिवेटिव ट्रेडिंग आमतौर पर शेयर बाजार या कमोडिटी बाजार के कारोबारी घंटों के हिसाब से होती है.

Luxury Car: महंगाई गई तेल लेने, इस साल हर घंटे इंडियन ने खरीदी चार लग्ज़री कार, जानिए डिटेल्स
भारत में डेरिवेटिव बाजार का महत्व तेजी से बढ़ रहा है. भारत में डेरिवेटिव ट्रेडिंग की शुरुआत साल 2000 साल में हुई. साल दर साल डेरिवेटिव ट्रेडिंग की लोकप्रियता कई गुना बढ़ रही है.

डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के फीस और शुल्क

शेयरों में ट्रेडिंग शुरू करने के लिए डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना आवश्यक है. डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट का लाभ उठाने के लिए विशिष्ट फीस और शुल्क लागू होते हैं.

बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ लिमिटेड (बीएफएसएल) के सब्सक्रिप्शन प्लान

बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ के साथ डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए, आप उपलब्ध तीन सब्सक्रिप्शन पैक्स मेस से चुनकर साइन-अप कर सकते हैं, हर पैक एक अलग ब्रोकरेज दर प्रदान करता है.

बीएफएसएल से जुड़े सभी डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट शुल्कों के विवरण यहां दिए गए हैं:

शुल्क के प्रकार

प्रोफेशनल पैक

बजाज प्रिविलेज क्लब

वार्षिक सब्सक्रिप्शन शुल्क

दूसरे वर्ष से: रु. 431

इक्विटी/डेरिवेटिव ट्रांज़ैक्शन शुल्क (सब्सक्रिप्शन मॉडल के लिए शुल्कों की सूची)

ब्रोकरेज शुल्क के अलावा, आपके शेयर मार्केट ट्रांज़ैक्शन पर कुछ अन्य शुल्क भी लगाए जाते हैं, जो इस प्रकार हैं:

शुल्क के प्रकार

बीएसई - स्क्रिप ग्रुप के अनुसार शुल्क अलग-अलग होते हैं

बीएसई - स्क्रिप ग्रुप के अनुसार शुल्क अलग-अलग होते हैं

क्लियरिंग मेंबर के शुल्क

ब्रोकरेज ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

ब्रोकरेज, ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

खरीदने और बेचने पर रु. 100 प्रति लाख (0.1%)

सेल साइड पर रु. 25 प्रति लाख (0.025%)

टर्नओवर का 0.00010%

टर्नओवर का 0.00010%

शुल्क के प्रकार

एनएसई - 0.053% (प्रीमियम पर)

बीएसई - शून्य या ट्रेड वैल्यू का 0.05%

बीएसई - शून्य या ट्रेडेड मूल्य का 0.05%

क्लियरिंग मेंबर के शुल्क

एनएसई और बीएसई - 0.00025%

एनएसई और बीएसई - 0.00025%

ब्रोकरेज, ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

ब्रोकरेज, ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

सेल साइड पर रु. 10 प्रति लाख (0.01%)

₹ 50 प्रति लाख (0.05%) सेल साइड (प्रीमियम पर)

टर्नओवर का 0.00010%

टर्नओवर का 0.00010%


बीएसई ट्रांज़ैक्शन/टर्नओवर शुल्क का विवरण

बीएफएसएल के साथ डीमैट अकाउंट शुल्क और फीस

बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ लिमिटेड के साथ डीमैट अकाउंट खोलना एक आसान ऑनलाइन प्रोसेस है. अकाउंट खोलने का शुल्क शून्य है, लेकिन डीमैट अकाउंट से जुड़ी विभिन्न सेवाओं का लाभ उठाने से जुड़े शुल्क हैं. ये शुल्क डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) के लिए अलग-अलग हो सकते हैं. बीएफएसएल का डीमैट शुल्क मामूली हैं और सभी डीमैट शुल्कों की विस्तृत जानकारी नीचे दी गई है:

शुल्क के डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? प्रकार

अकाउंट खोलने का शुल्क

वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क

बीएफएसएल के अंदर ऑफ-मार्केट ट्रांसफर*

₹30 या ट्रांज़ैक्शन वैल्यू का 0.02%, जो भी अधिक हो + लागू टैक्स

रु. 35 + लागू टैक्स

फिज़िकल सीएमआर/ डीआईएस

पहला सीएमआर/ डीआईएस अनुरोध मुफ्त है. उसके बाद रु. 50 + रु. 100 कूरियर शुल्क + लागू टैक्स

डीमटीरियलाइज़ेशन अनुरोध शुल्क

रु. 50 प्रति अनुरोध + रु. 50 प्रति सर्टिफिकेट

री-मटीरियलाइज़ेशन अनुरोध शुल्क

रु. 35 प्रति सर्टिफिकेट या 100 शेयर और भाग, जो भी अधिक हो और अकाउंट रिडेम्प्शन स्टेटमेंट के प्रति री-स्टेट के लिए रु. 25

प्रत्येक इंटरनेशनल सिक्योरिटीज़ आइडेंटिफिकेशन नंबर (आईएसआईएन) के लिए, *रु. 30 आपके डीमैट अकाउंट से डेबिट किए जाते हैं. अगर यह बीएफएसएल डीमैट अकाउंट है, तो लागू शुल्क रु. 30 के साथ-साथ टैक्स भी लागू होते हैं. मार्केट सेल ट्रांज़ैक्शन के मामले में, यह उस परिस्थिति में लागू होगा, जब एक्सचेंज किए गए सिक्योरिटीज़ के पे-इन दायित्वों के लिए बीएफएसएल डीमैट अकाउंट का उपयोग करके डिलीवरी की जाती है.

**हर बार लागू किया जाएगा, जब आईएसआईएन आपके डीमैट अकाउंट से डेबिट किया जाता है और अगर प्राप्तकर्ता का डीमैट अकाउंट बीएफएसएल डीमैट अकाउंट नहीं होता. इसमें सीडीएसएल शुल्क शामिल है.

Derivatives Market क्या है, डेरिवेटिव मार्केट कैसे काम करता है?

डेरिवेटिव ट्रेडिंग एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर भविष्य में डेरिवेटिव की ट्रेडिंग करने के लिए दो पार्टियों के बीच हुआ एक समझौता है.

Derivatives.

नई दिल्ली: अगर आप भी शेयर या कमोडिटी बाजार में ट्रेडिंग करते हैं डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? तो डेरिवेटिव मार्केट या डेरिवेटिव ट्रेडिंग शब्द से आप का पाला जरूर पढ़ा होगा. डेरिवेटिव ट्रेडिंग वास्तव में शेयर/कमोडिटी बाजार में डेरिवेटिव की खरीद या बिक्री है. डेरिवेटिव ट्रेडिंग एक पूर्व निर्धारित मूल्य के लिए भविष्य में डेरिवेटिव का ट्रेड करने के लिए दो पार्टियों के बीच हुआ एक समझौता है. डेरिवेटिव ट्रेडिंग आमतौर पर शेयर बाजार या कमोडिटी बाजार के कारोबारी घंटों के हिसाब से होती है.

Luxury Car: महंगाई गई तेल लेने, इस साल हर घंटे इंडियन ने खरीदी चार लग्ज़री कार, जानिए डिटेल्स
भारत में डेरिवेटिव बाजार का महत्व तेजी से डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? बढ़ रहा है. भारत में डेरिवेटिव ट्रेडिंग की शुरुआत साल 2000 साल में हुई. साल दर साल डेरिवेटिव ट्रेडिंग की लोकप्रियता कई गुना बढ़ रही है.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में डेरिवेटिव सेगमेंट में दैनिक कारोबार करोड़ों में पहुंच गया है. डेरिवेटिव ट्रेडिंग नकद बाजारों के कारोबार की तुलना में कई गुना अधिक हो रहा है.

क्या है डेरिवेटिव?
डेरिवेटिव वित्तीय कॉन्ट्रैक्ट होते हैंं जो स्टॉक, कमोडिटी, करेंसी जैसे एसेट की पहले से तय कीमत पर खरीद-बिक्री करने के लिए किए जाते हैं. डेरिवेटिव सौदे दो या अधिक पार्टियों के बीच हो सकते हैं.

डेरिवेटिव से कैसे होती डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? है कमाई?
डेरिवेटिव भविष्य में संपत्ति खरीदने या बेचने के लिए दो या दो से अधिक पार्टी के बीच हस्ताक्षरित समझौते के रूप में एक कांट्रैक्ट कहा जाता है. निवेशक उस एसेट के भविष्य के मूल्य में उतार-चढ़ाव की संभावना/आशंका पर दांव लगाकर मुनाफा कमाते हैं. डेरिवेटिव सौदे में अंतर्निहित संपत्तियां स्टॉक, बॉन्ड, कमोडिटी या मुद्रा, कुछ भी हो सकती है.

डेरिवेटिव ट्रेडिंग कई तरह के
हेजिंग करने वाले जोखिम-प्रतिकूल व्यापारी हैं जो किसी मुद्रा की वैल्यू में उतार-चढ़ाव से खुद को बचाने के लिए डेरिवेटिव सौदे करते हैं. वे एक अंतर्निहित संपत्ति की कीमत तय करके और जोखिम लेने वाले सट्टेबाज को मूल्य में उतार-चढ़ाव से जुड़े जोखिम को स्थानांतरित करके अपना नुकसान कम करते हैं. सट्टेबाज जोखिम लेने वाले व्यापारी हैं जो कीमत में उतार-चढ़ाव का फायदा उठाने के लिए हेजर्स से जोखिम उठाते हैं. वे शेयर बाजार के लिए तरलता का एक आवश्यक स्रोत बनाते हैं. मध्यस्थ कम जोखिम उठाने वाले व्यापारी हैं जो दो अन्य बाजारों में दो अलग-अलग कीमतों के लिए एक ही संपत्ति बेचकर लाभ कमाने का प्रयास करते हैं.

डेरिवेटिव सेगमेंट की वैल्यू
डेरिवेटिव सेगमेंट की वैल्यू अंडरलायर के तहत निकाली जाती है. मौजूदा समय में निफ्टी 50 इंडेक्स और सेंसेक्स, बैंक निफ्टी और कैश सेगमेंट के चुनिंदा शेयर अंडरलायर की भूमिका अदा करते हैं.

Options Trading: क्‍या होती है ऑप्‍शंस ट्रेडिंग? कैसे कमाते हैं इससे मुनाफा और क्‍या हो आपकी रणनीति

Options Trading: निश्चित ही ऑप्‍शंस ट्रेडिंग एक जोखिम का सौदा है. हालांकि, अगर आप बाजार के बारे में जानकारी रखते हैं और कुछ खास रणनीति बनाकर चलते हैं तो इससे मुनाफा अर्जित कर सकते हैं.

By: मनीश कुमार मिश्र | Updated at : 18 Oct 2022 03:40 PM (IST)

ऑप्‍शंस ट्रेडिंग ( Image Source : Getty )

डेरिवेटिव सेगमेंट (Derivative Segment) भारतीय बाजार के दैनिक कारोबार में 97% से अधिक का योगदान देता है, जिसमें ऑप्शंस एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनता है. निवेशकों के बीच बाजार की जागरूकता बढ़ने के साथ, ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) जैसे डेरिवेटिव सेगमेंट (Derivative Segment) में रिटेल भागीदारी में उछाल आया है. इसकी मुख्‍य वजह उच्च संभावित रिटर्न और कम मार्जिन की आवश्यकता है. हालांकि, ऑप्शंस ट्रेडिंग में उच्च जोखिम शामिल है.

क्‍या है ऑप्‍शंस ट्रेडिंग?

Options Trading में निवेशक किसी शेयर की कीमत में संभावित गिरावट या तेजी पर दांव लगाते हैं. आपने कॉल और पुष ऑप्‍शंस सुना ही होगा. जो निवेशक किसी शेयर में तेजी का अनुमान लगाते हैं, वे कॉल ऑप्‍शंस (Call Options) खरीदते हैं और गिरावट का रुख देखने वाले निवेशक पुट ऑप्‍शंस (Put Options) में पैसे लगाते हैं. इसमें एक टर्म और इस्‍तेमाल किया जाता है डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? स्‍ट्राइक रेट (Strike Rate). यह वह भाव होता है जहां आप किसी शेयर या इंडेक्‍स को भविष्‍य में जाता हुआ देखते हैं.

जानकारी के बिना ऑप्शंस ट्रेडिंग मौके का खेल है. ज्‍यादातर नए निवेशक ऑप्शंस में पैसा खो देते हैं. ऑप्शंस ट्रेडिंग में जाने से पहले कुछ बुनियादी बातों से परिचित होना आवश्यक है. मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड - इक्विटी स्ट्रैटेजी, ब्रोकिंग एंड डिस्ट्रीब्यूशन हेमांग जानी ने ऑप्‍शंस ट्रेडिंग को लेकर कुछ दे रहे हैं जो आपके काम आ सकते हैं.

News Reels

धन की आवश्यकता: ऑप्शंस की शेल्फ लाइफ बहुत कम होती है, ज्यादातर एक महीने की, इसलिए व्यक्ति को किसी भी समय पूरी राशि का उपयोग नहीं करना चाहिए. किसी विशेष व्यापार के लिए कुल पूंजी का लगभग 5-10% आवंटित करना उचित होगा.

ऑप्शन ट्रेड का मूल्यांकन करें: एक सामान्य नियम के रूप में, कारोबारियों को यह तय करना चाहिए कि वे कितना जोखिम उठाने को तैयार हैं यानी एक एग्जिट स्‍ट्रेटजी होनी चाहिए. व्यक्ति को अपसाइड एग्जिट पॉइंट और डाउनसाइड एग्जिट पॉइंट को पहले से चुनना होगा. एक योजना के साथ कारोबार करने से व्यापार के अधिक सफल पैटर्न स्थापित करने में मदद मिलती है और आपकी चिंताओं को अधिक नियंत्रण में रखता है.

जानकारी हासिल करें: व्यक्ति को ऑप्शंस और उनके अर्थों में आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले कुछ जार्गन्स से परिचित होने का प्रयास करना चाहिए. यह न केवल ऑप्शन ट्रेडिंग से अधिकतम लाभ प्राप्त करने में मदद करेगा बल्कि सही रणनीति और बाजार के समय के बारे में भी निर्णय ले सकता है. जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं, सीखना संभव हो जाता है, जो एक ही समय में आपके ज्ञान और अनुभव दोनों को बढ़ाता है.

इलिक्विड स्टॉक में ट्रेडिंग से बचें: लिक्विडिटी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह व्यक्ति को ट्रेड में अधिक आसानी से आने और जाने की अनुमति देता है. सबसे ज्यादा लिक्विड स्टॉक आमतौर पर उच्च मात्रा वाले होते हैं. कम कारोबार वाले स्टॉक अप्रत्याशित होते हैं और बेहद स्पेक्युलेटिव होते हैं, इसलिए यदि संभव हो तो इससे बचना चाहिए.

होल्डिंग पीरियड को परिभाषित करें: वक्‍त ऑप्शंस के मूल्य निर्धारण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. प्रत्येक बीतता दिन आपके ऑप्शंस के मूल्य को कम करता है. इसलिए व्यक्ति को भी पोजीशन को समय पर कवर करने की आवश्यकता होती है, भले ही पोजीशन प्रॉफिट या लॉस में हो.
मुख्‍य बात यह जानना है कि कब प्रॉफिट लेना है और कब लॉस उठाना है. इनके अलावा, व्यक्ति को पोजीशन की अत्यधिक लेवरेज और एवरेजिंग से भी बचना चाहिए. स्टॉक ट्रेडिंग की तरह ही, ऑप्शंस ट्रेडिंग में ऑप्शंस खरीदना और बेचना शामिल है या तो कॉल करें या पुट करें.

ऑप्शंस बाइंग के लिए सीमित जोखिम के साथ एक छोटे वित्तीय निवेश की आवश्यकता होती है अर्थात भुगतान किए गए प्रीमियम तक, जबकि एक ऑप्शंस सेलर के रूप में, व्यक्ति बाजार का विपरीत दृष्टिकोण रखता है. ऑप्शंस को बेचते वक्त माना गया जोखिम मतलब नुकसान मूल निवेश से अधिक हो सकता है यदि अंतर्निहित स्टॉक (Underlying Stocks) की कीमत काफी गिरती है या शून्य हो जाती है.

ऑप्शंस खरीदते या बेचते समय कुछ नियमों का पालन करना चाहिए:

  • डीप-आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? विकल्प केवल इसलिए न खरीदें क्योंकि यह सस्ता है.
  • समय ऑप्शन के खरीदार के खिलाफ और ऑप्शन के विक्रेता के पक्ष में काम करता है. इसलिए समाप्ति के करीब ऑप्शन खरीदना बहुत अच्छा विचार नहीं है.
  • अस्थिरता ऑप्शन के मूल्य को निर्धारित करने के लिए आवश्यक कारकों में से एक है. इसलिए आम तौर पर यह सलाह दी जाती है कि जब बाजार में अस्थिरता बढ़ने की उम्मीद हो तो ऑप्शंस खरीदें और जब अस्थिरता कम होने की उम्मीद हो तो ऑप्शंस बेचें.
  • प्रमुख घटनाओं या प्रमुख भू-राजनीतिक जोखिमों से पहले ऑप्शंस बेचने के बजाय ऑप्शंस खरीदना हमेशा बेहतर होता है.

नियमित अंतराल पर प्रॉफिट की बुकिंग करते रहें या प्रॉफिट का ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस रखें. अगर सही तरीके से अभ्यास किया जाए तो ऑप्शंस ट्रेडिंग से कई गुना रिटर्न्स प्राप्‍त किया जा सकता है.

(डिस्‍क्‍लेमर : प्रकाशित विचार एक्‍सपर्ट के निजी हैं. शेयर बाजार में निवेश करने से पहले अपने निवेश सलाहकार की राय अवश्‍य लें.)

Published at : 18 Oct 2022 11:42 AM (IST) Tags: Options Trading Derivatives Call Option Put Option Trading in Options Stop loss हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

शेयर बाजार में हाथ आजमाने वाले लोग ट्रेडिंग करने से पहले ‘फ्यूचर और ऑप्शंस’ के बारे में समझ लें

फ्यूचर और ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स डेरिवेटिव ट्रेडिंग के प्रमुख साधनों में से एक हैं। डेरिवेटिव्स शुरुआत करने वालों के लिए एक प्रकार डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? के कॉन्ट्रैक्ट्स होते हैं जिनका मूल्य अंतर्निहित संपत्तियों या परिसंपत्तियों के सेट पर ही निर्भर करता है।

ब्रांड डेस्क, नई दिल्ली। अक्सर आपने सुना होगा कि शेयर बाजार से दिन दोगुना रात चौगुना पैसा कमाया जा सकता है। लेकिन क्या यह इतना आसान है? क्या इस बाजार में कोई भी पैसे लगा सकता है? क्या इस बाजार में पैसा लगाने में किसी भी तरह का कोई जोखिम नहीं होता है? क्या इसके कुछ खास नियम भी हैं?

अगर आपके मन में भी इस तरह के सवालों को लेकर संशय बना हुआ है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इस आर्टिकल में शेयर मार्केट से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियां साझा की गई हैं, जो आपको शेयर मार्केट की दुनियां में कदम रखने में सहायक साबित हो सकती हैं।

Know Basic Tips which will increase your savings

5paisa के साथ शुरू करें निवेश का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

शेयर बाजार कैसे काम करता है?

शेयर बाजार में पैसा बनाने के अनेक विकल्प हैं जो इसे अत्यंत रोचक बनाते हैं I साथ ही निवेशकों के लिए सीख-कर व समझ-कर अपनी पसंद के उत्पाद में निवेश से लाभ कमाने का अवसर प्रदान करते हैं। इन्हीं उत्पादों में से दो प्रमुख उत्पाद हैं- फ्यूचर और ऑप्शंस। इन्हें समझने से पहले आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि शेयर बाजार, कमोडिटी बाजार या मुद्रा बाजार में सबसे अधिक प्रभाव कीमतों का होता है।

if you want better returns from multibagger and penny stocks, you have to adopt such a strategy

कैसे फ्यूचर और ऑप्शन है फायदेमंद?

फ्यूचर और ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स डेरिवेटिव ट्रेडिंग के प्रमुख साधनों में से एक हैं। डेरिवेटिव्स, शुरुआत करने वालों के लिए एक प्रकार के कॉन्ट्रैक्ट्स होते हैं, जिनका मूल्य अंतर्निहित संपत्तियों या परिसंपत्तियों के सेट पर निर्भर करता है। इनमें कोई एसेट बॉन्ड, स्टॉक, मार्केट इंडेक्स, कमोडिटी या करेंसी हो सकते हैं।

डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट्स के प्रकार

स्वैप, फॉरवर्ड, फ्यूचर और ऑप्शन सहित चार प्रमुख प्रकार के डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट होते हैं।

1. स्वैप- जैसा कि नाम से पता चलता है, ऐसे कॉन्ट्रैक्ट होते हैं जहां दो पार्टी अपनी देयताओं या नकदी प्रवाह का आदान-प्रदान कर सकते हैं।

2. फॉरवर्ड- कॉन्ट्रैक्ट में ओवर-द-काउंटर ट्रेडिंग शामिल होती हैं और विक्रेता और खरीदार के बीच निजी कॉन्ट्रैक्ट होते हैं। डिफॉल्ट जोखिम फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट में अधिक होता है, जिसमें सेटलमेंट करार के अंत की ओर होता है। भारत में, दो सबसे व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट फ्यूचर और ऑप्शन हैं।

3. फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स- मानकीकृत किए जाते हैं और माध्यमिक बाजार में इनका ट्रेड किया जा सकता है। वे आपको भविष्य में डिलीवर किए जाने वाले एक निर्दिष्ट कीमत पर अंतर्निहित एसेट खरीदने/बेचने की सुविधा देते हैं।

4. स्टॉक फ्यूचर- वे होते हैं जहां व्यक्तिगत स्टॉक एक अंतर्निहित एसेट होता है। इंडेक्स फ्यूचर वे हैं जहां इंडेक्स एक अंतर्निहित एसेट होता है।

5. ऑप्शन- ऐसे कॉन्ट्रैक्ट होते हैं जिनमें खरीदार को एक विशिष्ट कीमत पर अंतर्निहित एसेट बेचने या खरीदने का अधिकार होता है और निर्धारित समय होता है।

फ्यूचर और ऑप्शन के फायदे

बाजार में अस्थिरता की आशंका को कम करने के लिए विकल्प एक अन्य जरिया है। फ्यूचर एंड ऑप्शन का कॉन्ट्रैक्ट सामान होता है पर इस संदर्भ में खरीददार या विक्रेता के पास यह अधिकार होता है जिस से वो कॉन्ट्रैक्ट का इस्तेमाल करने के लिए बाध्य नहीं होता।

आमतौर पर विकल्प दो प्रकार के होते हैं, जिसमें पहला है CALL ऑप्शन और दूसरा PUT ऑप्शन। जहां CALL ऑप्शन में खरीददार के पास एक निश्चित मूल्य और भविष्य में तय तारीख़ पर परिसंपत्ति (एसेट) के हिस्से की खरीद-फरोख्त करने का विकल्प सुरक्षित रहता है और उसे इस कॉन्ट्रैक्ट का पालन नहीं करने की भी छूट होती है।

वहीं, PUT ऑप्शन में विक्रेता के पास यह अधिकार होता है कि वो एक निश्चित मूल्य और भविष्य में तय तारीख पर कोई परिसंपत्ति (एसेट) के हिस्से का खरीद-फरोख्त करेगा या नहीं। उसके पास भी इस कॉन्ट्रैक्ट का पालन नहीं करने की छूट होती है।

डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के फीस और शुल्क

शेयरों में ट्रेडिंग शुरू करने के लिए डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना आवश्यक है. डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट का लाभ उठाने के लिए विशिष्ट फीस और शुल्क लागू होते हैं.

बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ लिमिटेड (बीएफएसएल) के सब्सक्रिप्शन प्लान

बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ के साथ डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए, आप उपलब्ध तीन सब्सक्रिप्शन पैक्स मेस से चुनकर साइन-अप कर सकते हैं, हर पैक एक अलग ब्रोकरेज दर प्रदान करता है.

बीएफएसएल से जुड़े सभी डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट शुल्कों के विवरण यहां दिए गए हैं:

शुल्क के प्रकार

प्रोफेशनल पैक

बजाज प्रिविलेज क्लब

वार्षिक सब्सक्रिप्शन शुल्क

दूसरे वर्ष से: रु. 431

इक्विटी/डेरिवेटिव ट्रांज़ैक्शन शुल्क (सब्सक्रिप्शन मॉडल के लिए शुल्कों की सूची)

ब्रोकरेज शुल्क के अलावा, आपके शेयर मार्केट ट्रांज़ैक्शन पर कुछ अन्य शुल्क भी लगाए जाते हैं, जो इस प्रकार हैं:

शुल्क के प्रकार

बीएसई - स्क्रिप ग्रुप के अनुसार शुल्क अलग-अलग होते हैं

बीएसई - स्क्रिप ग्रुप के अनुसार शुल्क अलग-अलग होते हैं

क्लियरिंग मेंबर के शुल्क

ब्रोकरेज ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

ब्रोकरेज, ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

खरीदने और बेचने पर रु. 100 प्रति लाख (0.1%)

सेल साइड पर रु. 25 प्रति लाख (0.025%)

टर्नओवर का 0.00010%

टर्नओवर का 0.00010%

शुल्क के प्रकार

एनएसई - 0.053% (प्रीमियम पर)

बीएसई - शून्य या ट्रेड वैल्यू का 0.05%

बीएसई - शून्य या ट्रेडेड मूल्य का 0.05%

क्लियरिंग मेंबर के शुल्क

एनएसई और बीएसई - 0.00025%

एनएसई और बीएसई - 0.00025%

ब्रोकरेज, ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

ब्रोकरेज, ट्रांज़ैक्शन और सीएम शुल्क पर 18%

सेल साइड पर रु. 10 प्रति लाख (0.01%)

₹ 50 प्रति लाख (0.05%) सेल साइड (प्रीमियम पर)

टर्नओवर का 0.00010%

टर्नओवर का 0.00010%


बीएसई ट्रांज़ैक्शन/टर्नओवर शुल्क का विवरण

बीएफएसएल के साथ डीमैट अकाउंट शुल्क और फीस

बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ लिमिटेड के साथ डीमैट अकाउंट खोलना एक आसान ऑनलाइन प्रोसेस है. अकाउंट खोलने का शुल्क शून्य है, लेकिन डीमैट अकाउंट से जुड़ी विभिन्न सेवाओं का लाभ उठाने से जुड़े शुल्क हैं. ये शुल्क डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) के लिए अलग-अलग हो सकते हैं. बीएफएसएल का डीमैट शुल्क मामूली हैं और सभी डीमैट शुल्कों की विस्तृत जानकारी नीचे दी गई है:

शुल्क के प्रकार

अकाउंट खोलने का शुल्क

वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क

बीएफएसएल के अंदर ऑफ-मार्केट ट्रांसफर*

₹30 या ट्रांज़ैक्शन वैल्यू का 0.02%, जो भी अधिक हो + लागू टैक्स

रु. 35 + लागू टैक्स

फिज़िकल सीएमआर/ डीआईएस

पहला सीएमआर/ डीआईएस अनुरोध मुफ्त है. उसके बाद रु. 50 + रु. 100 कूरियर शुल्क + लागू टैक्स

डीमटीरियलाइज़ेशन अनुरोध शुल्क

रु. 50 प्रति अनुरोध + रु. 50 प्रति सर्टिफिकेट

री-मटीरियलाइज़ेशन अनुरोध शुल्क

रु. 35 प्रति सर्टिफिकेट या 100 शेयर और भाग, जो भी अधिक हो और अकाउंट रिडेम्प्शन स्टेटमेंट के प्रति री-स्टेट के लिए रु. 25

प्रत्येक इंटरनेशनल सिक्योरिटीज़ आइडेंटिफिकेशन नंबर (आईएसआईएन) के लिए, *रु. 30 आपके डीमैट अकाउंट से डेबिट किए जाते हैं. अगर यह बीएफएसएल डीमैट अकाउंट है, तो लागू शुल्क रु. 30 के साथ-साथ टैक्स भी लागू होते हैं. मार्केट सेल ट्रांज़ैक्शन के मामले में, यह उस परिस्थिति में लागू होगा, जब एक्सचेंज किए गए सिक्योरिटीज़ के पे-इन दायित्वों के लिए बीएफएसएल डीमैट अकाउंट का उपयोग करके डिलीवरी की जाती है.

**हर बार लागू किया जाएगा, जब आईएसआईएन आपके डीमैट अकाउंट से डेबिट किया जाता है और अगर प्राप्तकर्ता का डीमैट अकाउंट बीएफएसएल डीमैट अकाउंट नहीं होता. इसमें सीडीएसएल शुल्क शामिल है.

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 101